Thursday, 31 December 2015

अलविदा 2015 के साथ नए साल 2016 का आगाज

2015 की विदाई के साथ दोबारा दिल खोलने का समय आ गया है...कोई भावुक है कोई बेपरवाह...पर सभी 2016 की दहलीज़ को शुभ लाभ के कलश के साथ लांघने के लिए कतारबद्ध हैं...चूंकि तुममें मैं हूं मुझमें तुम हो इसलिए तुम्हारे सामने ज़हन के यह कड़कड़ाते बादल बरस रहे हैं...साल 2015 घर दोस्तों पिता भाई बहन मां का साथ छूट गया था..दुनिया सिमट गई ...रिश्तों के ताने और बाने दोनो झेले..संभली और आंखों के पन्नों को भरने की ठानी...मां की ममता वात्सल्य की कमी को कोई नहीं पूरी नहीं कर सकता है फिर भी कुछ लोगों की मेहनत मुझे पत्थर पर फूल उगाने के लिए काम आई...जो हुआ उसे हम टाल नहीं सकते...यादों को पौठली में बांध कमरदर्द लेने से बेहतर था आगे बढ़ना ...बढ़ा लेकिन फिर भी कमर के लचकने का एहसास हुआ...रीढ़ की हड्डी जो टूट गई थी...फिर भी एक दिव्यांग की तरह निकल पड़ी भगवान की बनाई कुछ और खूबसूरती को देखने..महसूस करने...दिल दिमाग पर परेशानियों के हथोड़े पड़ रहे थे लेकिन मैने वैद्य बनने की ठानी...दोस्त कुछ खर्च हुए कुछ का बैंड बजा कुछ का मस्त वाला साथ मिला...गैरो का प्यार और परायों की ललकार का कंपन महसूस किया ...लेकिन इस भूंकप ने नुकसान ज्यादा नहीं किया...अपने अपने हो गए...कुछ अपने दूर हो गए...कुछ हवा के झोके के साथ चले गए...आरोप लगे पर तारीफों ने समां बांधा...बहुत सीखा..बहुत सिखाया..सतर्क हुआ पर बेबाकी जारी रही...नया आयाम मिला..सौंदर्य के तेज के बीच पूर्णिमा का चांद खिला..गृह जनपद की मायूसी के बीच विदेशी ज़मीन में शोर शराबा हुआ...अफगान जलेबी से लेकर देसी कट्टा की महफिल सजी...कमीनेपन हरामीपन बचपन सबको LITTLE LITTLE TRY किया...ग्लैमर की चकाचौंध में भी ज़मीनी रहने का सुकून मिला...जो हुआ गलत हुआ...जो हुआ अच्छा हुआ...बेहतर है छोड़ों या तो तोड़ों...
अब आने वाला कल बहुत अच्छा होगा..शहनाई पढ़ाई विदाई बुराई बड़ाई कमाई सिलाई अगुवाई रहे पर तनहाई छोड़ दे...अपनों का साथ मिले..दिल दिमाग से मेहनत हिले...भाग्य खिल उठे...जो साथ रहे उनको प्यार...जिन्होंने सबक सिखाया उनका तहे दिल से शुक्रिया...खुदा नूर सुकून शौहरत इज़्जत सब बख्शे मुझसे ज्यादा आपको...चूंकि आपकी खुशी में ही मेरी तरक्की है ...अब आगे की तैयारी कर रही हूं...हां दुआओं में याद रखना ...

                                          HAPPY NEW YEAR 2016