Monday, 9 March 2015

मसरत आलम की रिहाई को लेकर बढ़ा विवाद

जम्मू कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी का गठबंधन को बनें अभी कुछ ही दिन हुए हैं कि दोनों ही पार्टियों में दरार आता नज़र आ रहा है...अलगाववादी नेता मसरत आलम की रिहाई पर दोनों ही दलों के बीच टकरार पैदा हो गई है. मसरत आलम की रिहाई को लेकर जम्मू कश्मीर में बीजेपी पीडीपी का विवाद बढता जा रहा है....जम्मू में बीजेपी विधायकों और बड़े नेताओं की बैठक हो रही है... बैठक में मुफ्ती के फैसलों और विवादित बयानों को लेकर चर्चा हो रही है.... बैठक में सरकार गिराने या फिर समर्थन वापस जैसे मुद्दों पर चर्चा की उम्मीद कम है....लेकिन मुफ्ती के फैसलों के विरोध की बात हो रही है. बीजेपी ने कहा ऐसे फैसलों से गठबंधन को खतरा है...कांग्रेस ने पीएम से जवाब मांगा है.

वहीं संसद में बजट सत्र में भी इस मुद्दे को लेकर विपक्ष दल हंगामा कर सकते हैं... जम्मू में हफ्ते भर में ही बात अब गठबंधन टूटने तक पर आ गई है. बीजेपी ने साफ कहा है कि मसरत के मुद्दे पर पार्टी को अंधेरे में रखा गया...विवाद की शुरुआत तो पहले ही दिन हो गई थी . लेकिन यहां तक बात तब पहुंची जब मुफ्ती ने बीजेपी की बात सुननी ही बंद कर दी.

पार्टी ने विरोध जताया था फिर भी अलगाववादी नेता मसरत आलम को जेल से रिहा कर दिया गया. जम्मू में जो बैठक हुई है उसमें सरकार में शामिल कई पार्टी के कई मंत्री मौजूद नहीं थे . ऐसे में सवाल ये है कि क्या अगली बैठक के बाद वाकई में बीजेपी मुफ्ती को बाय बाय कर देगी ? या फिर ऐसे ही चलता रहेगा .