Tuesday, 8 October 2013

एक प्रेमी की दर्द भरी कहानी

एक अंधी  लड़की हमेशा इस सोच में डूबी रहती थी की कोई मुझे प्यार करेगा की नहीं...?
मुझे किसी का स्नेह मिलेगा की नहीं..?? एक बार राह चलते चलते वह कहीं गिर पड़ी..उसे एक लड़के ने उठाया सहारा दिया और उसे लेकर उसकी घर की तरफ चल पड़ा.
इस दरम्यान उनके मध्य बहुत सी बातें होती है..
घर छोड़ते वक्त लड़का लड़की से कहता है अगर मैं तुम्हारी ज़िन्दगी का हिस्सा बनना चाहूँ तो क्या तुम स्वीकार करोगी..??
मैं तुम्हे बहुत स्नेह दूंगा और बहुत प्यार से रखूँगा..
बाइस (22) साल से लड़की जिस दो शब्द को वो सुनना चाहती थी वो शब्द इस लड़के से सुन बरबस उसकी आँखों में आंसू आ गए..
और कहा ये जानते हुए भी की मेरी आँखें नहीं हैं..फिर भी.??
लड़के ने कहा : हाँ मैं तुम्हारे व्यक्तित्व को और तुम्हारे अस्तित्व चाहने
लगा हूँ....
इस पर लड़की रोने लगी और बोली : काश ! अगर मै तुम्हे देख पाती तो तुम्ही से शादी करती
कुछ साल बीत गए और उस लड़के ने उस लड़की की आँखों का ओपरेशन कराया। ओपरेशन कामयाब हुआ। 
डॉक्टर जब उसकी आँखों से पट्टी उतारने लगते है तो लड़की कहती है की सबसे पहले मुझे उस इंसान को चेहरा दिखाइये जिसकी वजह से मै अब दुनिया को देखने जा रही हु
डॉक्टर उस लड़के को उस लड़की के सामने लाते है और लड़की की आँखों की पट्टी उतारते है 
लड़की देखती है की वो लड़का भी अँधा है
तब लड़का कहता है क्या तुम मुझसे शादी करोगी
लड़की जवाब देती है मैंने मेरी ज़िन्दगी अँधेरे में गुजारी है मुझे पता है अँधापन कैसा होता है मै फिर से मेरी ज़िन्दगी को अंधेपन में नहीं डाल सकती
मै तुमसे शादी नहीं कर सकती
तब लड़का उस लड़की को एक पत्र देकर चला जाता है।
जब लड़की उस पत्र को देखती है तो उसमे लिखा होता है
" ऐ बेवफा 
तुम अपना ख्याल रखने के साथ साथ मेरी इन आँखों का भी ख्याल रखना"
तुम्हारा प्रेमी