Monday, 9 September 2013

मुज़फ्फरनगर: अफसर नपे, BJP नेताओं पर FIR

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के राज्यपाल बी एल जोशी ने मुज़फ्फरनगर दंगों की रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेज दी है। रिपोर्ट में दंगे से निपटने में प्रशासनिक कमियों का ज़िक्र किया गया है। वहीं राज्य सरकार ने कई अधिकारियों का तबादला कर दिया है। इसके अलावा कई नेताओं पर भी मुकदमा दर्ज किया गया है।
नेताओं पर मामला दर्ज
इस मामले में प्रशासन की तरफ से कई नेताओं पर मामला दर्ज किया गया है। बीजेपी विधानमंडल दल के नेता हुकुम सिंह, कांग्रेस नेता हरेंद्र मलिक (पूर्व सांसद) बीजेपी विधायक संगीत सोम, भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत, बीकेयू नेता राकेश टिकैत, बीजेपी विधायक भारतेंदु, बीजेपी विधायक सुरेश राणा समेत कई लोगों के खिलाफ कई धाराओं में थाना सिखेड़ा में एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तारी के आदेश जारी किए गए हैं। ये एफआईआर महापंचायत के सिलसिले में कल दर्ज की गई हैं। इन पर भड़काउ भाषण, सरकारी कार्यों में बाधा और धारा 144 के उल्लघंन के आरोप में मामला दर्ज किया गया है।
सेना का फ्लैग मार्च
उधर, सेना का पुलिस के साथ मेरठ में भी फ्लैग मार्च जारी है। सेना के दो कॉलम मेरठ में स्टैंड बाय पर रखे गए हैं। सेना को लगातार पुलिस के साथ फ्लैग मार्च के आदेश दिए गए हैं। मुज़फ्फरनगर समेत मेरठ के भी सभी शिक्षण संस्थाए बंद हैं। मुज़फ्फरनगर से सटे जिलों में अतिरिक्त सुरक्षा के निर्देश दिए गए हैं। शामली में भी सेना का एक कॉलम स्टैंड बाय पर रखा गया है। एडीजी भावेश कुमार मुज़फ्फरनगर पहुंचने के बाद हालात का जायजा लेंगे और प्रेस कांफ्रेंस करेंगे।
आला अधिकारियों पर गाज
मुज़फ्फरनगर दंगों के बाद अब आला पुलिस अधिकारियों पर गाज गिरने का सिलसिला शुरू हो गया है। मेरठ जोन आई जी ब्रजभूषण शर्मा और सहारनपुर रेंज के डीआईजी डी सी मिश्रा का तबादला कर दिया गय़ा है। हाल ही में मेरठ ज़ोन के आईजी से प्रोन्नत होकर एडीजी बने भावेश कुमार को आईजी जोन मेरठ का अतिरिक्त प्रभार देकर शासन ने स्टेट प्लेन से सीधे मुज़फ्फर नगर पहुंचने के आदेश दिए हैं। सहारनपुर के नए डीआईजी अशोक मुथा जैन होंगे। दोनों अधिकारी स्टेट प्लेन से मुज़फ्फरनगर पहुंचेंगे।